Advertisement

परिंदा attitude shayri in hindi



आजाद परिंदा attitude shayri 




1.जब अपना परिंदा ही किसी और के दाने के आदी हो जाए तो शायद उन्हें आजाद कर देना चाहिए



1.Jab apna prinda hi kisi or ke dane ka aadi ho jaye to sayad use aajad kr dena chahiye



2.अरे तू चौरा गेल रहके गैंग बना रहा है
उनको जंगल मे रहना के तरीका भी सीखा दिए




2.Are tu chora gel rhke gang bna rya hai
Ukno jungle me rhne ke trike bhi sikha diye


रे ब्योतं किसा भी हो मेरे भाई पर काचै काट रे हाँ
आर बदमाशि कर्ण ते डर ने लगता ताई आले बस बापू की इज्जत  खों न का डर लाग है



Re byont kisa bhi mere bhai par kache kat re han aar badmashi krn te dar ni lagta mere bhai bus bapu ki ijjat khon ka dar lag hai 



हमारी कोई बूरी आदत नहीं हैं शिवाय हमारे गुस्से के 

Humari koi buri aadat nhi hai shivay humare gusse ke

एक टिप्पणी भेजें

3 टिप्पणियाँ