Advertisement

saath jeena aur saath marane kee vajah | sad shayari

जिनको जाना हैं वो कैसे भी चले जाते हैं,
किसी के रोने से उनको कोई फर्क नहीं पड़ता 
जाने वाले के पास हजार वजह होती हैं 
TOC
लेकिन साथ निभाने वाले के पास सिर्फ एक ही वजह काफी हैं 

साथ जीना और साथ मरने की वजह

jinako jaana hain vo kaise bhee chale jaate hain, kisee ke rone se unako koee phark nahin padata jaane vaale ke paas hajaar vajah hotee hain lekin saath nibhaane vaale ke paas sirph ek hee vajah kaaphee hain saath jeena aur saath marane kee vajah

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ