attitude and love शायरी

इतना बड़ा गुंडा कोन्या अक राव साहब
गेल्या वारदात कर जाग्या
आँख मे आँख मिला लिए
भगत तू तो न्यु ही मर जायगा 


पहले डर लाग्या कर्ता कीसीने खोनः का
अब चाहै वौ कीते  ही ई तीसी कराव


भूल गया वो इंसान जो कभी कहा करते 
थे कि मे तुझे कभी खोना नहीं चाहता 


मे नाम कोना लेता लागदार
पर मतलबी तू भी था 



आर गनी ना सोच मित्र
दिमाग चाल जाया कर
आर ओकात. की कह था
जिस दिन दिखा दी अपनी okat 
उस दिन थारे सिस्टम हाल जाएगा 

एक टिप्पणी भेजें

7 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं