Advertisement

गरजते हैं वो बरसते नही sad love shayari

तुमने समझा ही नही और
ना समझना चाहा,
हम चाहते ही क्या थे तुमसे “तुम्हारे सिवा”😢
Tumne samjha hu nahi our
Na samjhna chaha,
Ham chahte hi kya the tumse “tumhare siva”

बात-बात पर साथ जीने मारने की बात करने वाले,
आज दिल से जान निकाल कर लेगये।
सही कहते थे लोग जो बादल गरजते हैं,
वो बरसते नही।
baat baat par saat jine-marne ki baat karne wale,
Aaj dil se jaan nikal kar le gaye.
Sahi kahte the log, jo baadal garjate hain.
Wo baadal barste nahin.


साहब हमारे दिल का हाल तो यू हैं, दिखाने के लिए मुस्कराहट लानी पड़ती हैं।
और अकेले में दिल बच्चा बनकर रोता हैं।
sahab hamare dil ka hal to yu hain
Dikhane ke liye muskrahat lani padti hain
Our akele me dil bacha bankar ro padta hain.



तेरे साथ बिताए वो हसीन पल, तेरी दी हुई निशानियां,
साथ जीने मारने के वो वादे
जब भी याद आते हैं तो ये पागल दिल रो देता हैं
tere saath bitaye wo hasin pal, Tere diye huyi nishaniyan, saath jine marne ke wade 
Jab bi yaad aate hain, ye pagal dil ro deta hain.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ