Advertisement

साथ गुजारे वो पल भूल जाने के काबिल नही Sad shayari



तुम्हारी वो मुस्कान भूल जाने के काबिल नही
साथ गुजारे वो पल भूल जाने के काबिल नही
तुम बहुत खूबसूरत परी हो
लेकिन तुम्हारा दिल किसी से लगाने के कबिल नही

Tumhari wo muskan bhool jane ke kabil nahi
sath gujare pal bhool jane ke kabil nahi
tum bahut khubsurt ho 
lekin tumahara dil kisi se lagane ke kabil nahi



तुम राह में पड़े पत्थर थे। 
हमने मूर्त बनाकर दिल से लगाया 
और तुमने उसी दिल को तोडा 

Tum raha me pade patthar the 
humne murt banakar dil se lagaya
our tumne usi dil ko tod diya.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ