हम तो बिना बुलाये मेहमान की तरह हो गए

हम तो बिना बुलाये मेहमान की तरह हो गए bina bulaye mehaman ki traha ho gaye 





kisi ki jindgi me hum rahana chahate hain.lekin unke liye humbina bulaye mehaman ki traha ho gaye wo aaye huye ka maan to rakhte hainlekin apanaapan nhi hota



किसी की जिंदगी में हम जाना चाहते हैं लेकिन हम उनके लिए हम तो बिना बुलाये मेहमान की तरह हो गएजिसका मान तो होता हैं लेकिन अपनापन  नहीं होता।  




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.